बांसुरी और वह

राह में  मिले कृष्णा कहीं, मुझे
अपनी  बांसुरी दे गए
कान में मेरे चुपके से
एक बात कह गए —
वह छेल छबीली पनघट पर
शिथिल , चुपचाप खड़ी है
वह जड़ है
लेकर अपना भार खड़ी है
अपने प्रिय की प्रतीक्षा में
कितनी लाचार बनी है
आँखों में, अंतर में, कुछ लिए
वह बेजार खड़ी है
– अपूर्व ! तुम उसे
यह बांसुरी दे देना
उसकी अनकही बातों को
उसके प्रिये तक पहुंचा देना

मै फिर पहुंचा पनघट पर
हाथ में बांसुरी लिए
संकुचता हुआ
ह्रदय  में संवेदना लिए
लगा जैसे एक भोली बाला
लाज में गड़ी हो
प्रेम की आग दिल में लिए
संशय में पड़ी हो
दे दूँ उसे बांसुरी
और खोल दूँ वो सब द्वार
जिन्हे वो यत्न  से, सब से छुपा, बंद किये खड़ी है
या
उसे ऐसे ही देखता रहूं
उसके मूक सुख को
मैं भी अनुभव कर जी रहूं

—- अपूर्व मोहन

6 thoughts on “बांसुरी और वह”

  1. You need to take part in a contest for one of the most useful sites online. I am going to recommend this website! Ekaterina Pietrek Shanleigh

  2. Excellent blog here! Also your site loads up very fast! What host are you using? Can I get your affiliate link to your host? I wish my website loaded up as fast as yours lol Sunshine Pauly Christyna

  3. Sweet blog! I found it while browsing on Yahoo News. Do you have any suggestions on how to get listed in Yahoo News? Deva Wernher Gupta

  4. I was more than happy to uncover this page. I wanted to thank you for your time for this fantastic read!! I definitely loved every part of it and I have you saved as a favorite to see new stuff in your site. Helene Gregoire Ditter

  5. Having read this I believed it was rather enlightening. I appreciate you spending some time and energy to put this short article together. I once again find myself personally spending a significant amount of time both reading and leaving comments. But so what, it was still worthwhile! Merrili Angel Ardelia

Comments are closed.